Categories
आंदोलनों के बारे में

आन्दोलन को बहुगुणित करने में बाहरी व्यक्ति की भूमिका

आन्दोलन को बहुगुणित करने में बाहरी व्यक्ति की भूमिका

2019 में , 30 से भी ज्यादा आन्दोलन के चिकिस्तक मिशनरी प्रशिक्षण के नये नमूने का अन्वेषण करने के लिए इक्कठा हुए थे | सभा में गैर-पश्चिमी चेले-बनाओं आन्दोलन के अगुवे और पश्चिमी मिशन कार्यकर्त्ता शामिल थे | एक सत्र के दौरान , आन्दोलन के अगुवों ने  बाहरी व्यक्ति की भूमिका उनके क्षेत्र में नये कार्यों को उत्प्रेरणा देने के विषय में क्या है इसपर  अपनी अंतदृष्टि को साँझा किया | बाहरीव्यक्ति जब न-पहुचे स्थान में जाते है उन्होंने उनके सबसे अच्छे रुख को बताया |

उनकी अंतदृष्टि दस सिफारिशों में संक्षेप्त में दी जा सकती है | कोई भी मिशन फिल्ड में जाना चाहता है या कार्यकर्ताओं को फिल्ड में भेजना चाहता है वो इन बातों को अच्छे से सुन ले :

 

उदाहरन बने .  बाहरी व्यक्ति को “रास्ते की विश्वसनीयता ” चाहिए चेले बनाना और कलीसिया स्थापित करने में दुःख और यातनाये शामिल है | ये बातें बाहरीव्यक्ति में गहराई को लाती है जिसे अंदरूनी व्यक्ति जानता और महसूस करता है | उन मार्गों पर चलते हुए जो धीरज और नम्रता आती है वे उसकी प्रशंसा करते है | नमूना में सिर्फ थिओलोजी और उपकरण शामिल नहीं होते है | ये प्रार्थना, परिश्रम , दृढ़ता ,जिम्मेदारियों को देना और परमेश्वर पर भरोसा रखने की जीवनशैली है |

संबंधात्मक बने . जब बाहरीव्यक्ति आन्दोलन के उत्साह को लेकर आता है स्थानीक अन्तर को महसूस कर सकते है ऐसा तरीका जो लोगों के प्रेम के प्रति झुकता है | संबंध रणनीति को पछाडती है | काम को पूरा करने के लिए अति- लेनदेन इच्छा सबंधात्मक संस्कृति में लोगों पर जाल डालती है | हमारी सभा में आन्दोलन के अगुवें आश्चर्य किये की पश्चिमी बाहरी लोग “सीमाओं” के विषय बात कर रहे थे  स्थानीय लोगों के जरूरतों और दृष्टिकोण को जाने बगैर जिन्हें वे अपने कंधो तक पकडे हुए थे | साथ में , स्थानीय विश्वासी बाहरी व्यक्ति के उपकरनों और तरीकों से प्रभावित नहीं होते है | वे चाहते है , प्रेम और सम्मान को उस व्यक्ति के द्वारा जिससे वे भागीदारी करते है | परिवार के जैसे बनना शायद धीमा रहे , परन्तु ये फलवंत होने की ओर एक प्रशस्त मार्ग को रखती है |

नम्र बने : संसार श्रेणीबद्ध ढांचे में कार्य करता है | इसके विपरीत , यीशु ने बताया है , “पर तुम में ऐसा नहीं ” ( मरकुस 10:43 ) बॉस के रूप में न आये , परन्तु अंदरूनी अगुवे के साथ मित्र के जैसा व्यवहार करे | उन्हें सशक्त करे और नियंत्रण सौप दे ( ये ऐसा है जो हम में से कईओं के लिए कठिन है ) | ये जानते हुए की नियंत्रण आन्दोलन ख़त्म करता है , “ गोल मेज को ना की आयताकार को ” स्थापित करने के लिए कार्य करे | दुसरे की सुनना सम्मान, प्रेम और सुधि को प्रगट करता है | अनुभवी सेवक सम्मानित महसूस करते है जब आप उनके संसार को समझने के लिए समय देते है ,  और उनके साथ और उनके द्वारा कार्य करे ( उनके लिए नही या वो आपके लिए )

संस्कृति सिखने वाला बने : स्थानीय विश्वासी गड़बड़ी में पड़े जाते है जब बाहरी व्यक्ति सांस्कृतिक रूप से कितना अनजान है जब वे सुसमाचार के सन्देश को नयी फसल के स्थान में ले आते है | हमे इस बात को पहचानना है की जब मै एक बाहरी व्यक्ति के रूप में आता हु हम अपने साथ अपने घर की संस्कृति की महक लेकर आये | ये प्रभाव डालती है हम कैसे संपर्क करते है , कैसे सुधारते है , गठबन्धनों को चलाते है , पूर्वाग्रहों के साथ जो हम जीते है , और जिस रीती से कार्यों को पूरा करते है | जिन उपकरणों का हम इस्तेमाल करते है सांस्कृतिक झोले को लेकर आते है | भाषा सिखने में  और स्थानीय संस्कृति के अनुसार कार्य करना सीखे | हमे सीखना है स्थानीय लोगों के साथ मिलकर राज्य की ज्योति कैसे लाये  जो हमे यीशु के जैसा और बना सकती है  |

धीरज धरे : आन्दोलन के अगुवे उस ब्योरें को याद करते है की कैसे बाहरी व्यक्ति अपने उपकरणों और तरीकों को लेकर आते है और बोलते है “ मै जानता हु ये यहां काम करेगा क्यूंकि ये कही और भी कार्य किया है |” एक धीरजवंत साम्बंधिक पहुँच स्थिरता को अनुमति देती है , जहां बाहरी और स्थानीय एक दुसरे से सीखते है पवित्र आत्मा के मार्गदर्शन में और भरोसा उसमे खिल सकता है | बाहरी व्यक्ति का धीरज नम्रता और मान्यता को प्रदर्शित करता है जिसमे सांस्कृतिक रूप से अंदरूनी व्यक्ति के पास सहयोग के लिए है , ताकि फलवंत साधनों के पीछे के सिद्धांतों को बढाने में मदद कर सके |

एक प्रार्थना के अगुवे बने : बाहरी व्यक्ति को प्रार्थना में अगुवाई करनी चाहिए , हालाकिं उन्हें लगता होगा की स्थानीय लोग उनसे अच्छा ये करते है | बाहरी व्यक्ति करते है , फिर भी , बाहरी प्रार्थना के नेटवर्क को रणनीतिक तरीके से उत्प्रेरक करने की योग्यता रखे जो जमीनी हकीकतों को बदलता है | स्थानीय विश्वासियों को इन प्रार्थनाओं के नेटवर्क के साथ जोड़ना उन्हें श्रोतों तक पहुच देती है जो शायद उन्हें बाहरीव्यक्ति के संपर्क के बगैर नहीं हो सकता है |

दर्शन बाटने वाले और अंदरूनी लोगों को उत्प्रेरणा देने वाले बने : आन्दोलन के अगुवे बाहरी व्यक्ति की कहानियों को बताते है जिन्होंने दर्शन को उनके साथ बाटा था ताकि वे “ फसल के मजदुर बने ” और उनके साथ सोचे की क्या संभव हो सकता है | बाहरीव्यक्ति संबंधों के बड़े आधार को रख सकता है और कई नेटवर्क को एकता में ला सकता है | हमने भी सुना की कैसे आन्दोलन के अगुवे बाहरीव्यक्ति के सम्पर्क में आये जो उन्हें नये लोगों के जातियों तक पहुचने के दर्शन को बाट सके और उनके क्षेत्र के लिए 24:14 के संपर्क में आये | अंदरूनी व्यक्ति को सही बाहरी नेटवर्क के साथ जोड़ने के द्वारा दर्शन को रखने और नये मजदूरों को उत्प्रेरणा देने में मदद कर सकते है |

सलाहकार या कोच बने : बाहरीव्यक्ति महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है जीवन के सलाहकार के रूप में | परन्तु आन्दोलन के अगुवे सावधान कराते है लेनदेन सम्बंधित कोचिंग रणनिति संबंधो के संस्कृति में धराशाई हो जाती है | स्थानीय अगुवे उनके बाहरी सहभागियों  से अपेक्षा करते है की वे उनके साथ समय बिताये समस्याओं को , प्रश्नों और संस्कृति के सम्मान को खोजने में |

वचन पर निर्भर रहे : बाहरीव्यक्ति का परमेश्वर के साथ का लम्बा ईतिहास थियोलोजी का ढांचा बनाने में और उसके वचन के द्वारा ईश्वरीय निर्भरता में मदद कर सकती है | एक प्रतिबद्धता की परमेश्वर और उसके वचन से एकसाथ मार्गदर्शन को पायें , और वो जो कहता है वैसा करे , चाहे कुछ भी क्यों न हो , परमेश्वरिय जीवन को पुनःउत्पादित करने वाल नमूना |

योजक बने : एक बाहरीव्यक्ति जिसके पास श्रोत है निश्चित तौर पर दुसरे बाहरीव्यक्तियों के लिए भरोसेमंद रहेगा | एक बाहरी उत्प्रेरक जिसने अंदरूनी अगुवे के साथ संबंध बनाया है वो एक पुलिया बन सकता है , जो उन्हें बाईबल, उपकरण या प्रशिक्षण देक नये कार्य को आंरभ करने में मदद कर सकता है | बाहरी उत्प्रेरक डाटा इक्कठा करने और रिपोर्टिंग करने  में जो आन्दोलन को दुसरे आन्दोलन और नेटवर्क को जोड़ते है मदद कर सकता है |

एक बाहरी उत्प्रेरक के रूप में नपहुचे हुओं तक आन्दोलन आरम्भ करने की कोशिश करे , हम बहुत लोगों से सिख सकते है जो हम से पहले थे , सबसे प्रभावशाली , परमेश्वर को आदर देने वाले उत्प्रेरक के रुख होने चाहिए | भेजने वाली एजेंसियां नम्र और आदरयोग्य लोगो को भेजती है जिसे परमेश्वर इस्तेमाल कर सकता है उसके राज्य की बढ़ोतरी के लिए हर भाषा , जाती और राष्ट्र के मध्य में

 

 

 

क्रिस मेकब्राइड के लेख से लिया गया जो सित/अक्टू २०२० के मिशन फ्रंटियर के प्रकाशन में दिखाई दिया www.missionfrontiers.org 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *